Showing posts with label Health. Show all posts
Showing posts with label Health. Show all posts

Monday, 13 May 2019

जुकाम, खांसी और गले में दर्द है सीजनल एलर्जी से कैसे बचें।

मौसम बदलने के कारण जो एलर्जी होती है उसे सीजनल एलर्जी कहते है, जिसमें जुकाम, खांसी, गला खराब होना और बुखार आदि शामिल है। बच्चा अगर बहुत ज्यादा थकान का शिकार होता हो, उसे सर्दी-जुकाम बना रहता हो, नाक में खुजली हो तो इसे एलर्जी हो सकती है। बच्चों की रोग प्रतिरोधक कमजोर बड़ो की तुलना में कमजोर होने के कारण बच्चे जल्दी एलर्जी का शिकार हो जाते है। गुरुग्राम स्थित नारायणा सुपर स्पेशेलिटी अस्पताल के इंटरनल मेडिसिन के एचओडी एंड डारेक्टर डॉ सतीश कौल ने बच्चों को सीजनल एलर्जी से बचाने और इसके लक्षणों के बारे में कुछ सुझाव दिए हैं, जिनका सहारे आप अपने बच्चों को इस सीजनल एलर्जी से बचा सकते हैं।

जुकाम, खांसी और गले में दर्द है सीजनल एलर्जी से कैसे बचें।
झुखाम का इलाज


सीजनल एलर्जी से बच्चों में बीमारियां 

मौसम में बदलाव से बच्चों में दूषित पानी और खान-पान के कारण एलर्जी से दस्त, पीलिया और डायरिया जैसी बीमारियां हो सकती है।

सीजनल एलर्जी से बचाव के तरीके

  • अगर आप एलर्जी से बचना चाहते हैं, तो अपने घर के आस पास गंदगी को न रहने दें। 
  • अपने घरों में अधिक से अधिक खुली और ताजा हवा आने दें। 
  • जिन खाद्य पदार्थों से आपको एलर्जी होती है उन्हें न खाएं।
  • बरसात के मौसम में नमी से बचे और इसके अलावा एकदम गरम से ठन्डे और ठन्डे से गरम वातावरण में न जाएं।
  • बाहर निकलते समय मुंह पर ढ़क कर बाहर निकलें।  
  • पालतू जानवरों से दूर रहें। अगर उनसे एलर्जी है तो उन्हें घर में ना रखें।
  • ज़िन पौधों के पराग कणों से एलर्जी है उनसे दूर रहे। 
  • धूल मिटटी से बचें, यदि धूल मिट्टी भरे वातावरण में काम कर रहे है तो फेस मास्क पहन कर काम करें

सीजनल एलर्जी से उपचार के तरीके

बदलते मौसम में होने वाली एलर्जी से उपचार के लिए हमें एलर्जी से बचाव करना चाहिए। बाहर निकलते समय मुंह ढ़क कर निकलना, बाहर का भोजन न करना, मार्केट में मिलने वाले पेय पदार्थ जैसे कोल्ड ड्रीक, गन्ने का जूस, गोलगप्पे के सेवन से बचें। इन उपायों से आप बदलते मौसम में होने वाली एलर्जी से बच सकते है। 

माता-पिता बच्चों को इस बीमारी से कैसे बचाएं और उन्हें कैसे इससे दूर रखें?

बच्चों को बदलते मौसम में होने वाली एलर्जी से बचाने के लिए माता-पिता को अपने बच्चे पर विशेष ध्यान देना चाहिए। यदि बच्चे को धुल- मिट्टी से एलर्जी है तो बाहर खेलने के दौरान नाक पर कपड़ा बांधकर रखना चाहिए। इसके लिए बच्चों को बाहर का खाना, गोलगप्पे, गन्ने का जूस नहीं देना चाहिए। जितना हो सके बच्चों को घर का बना हुआ फ्रेश खाना की खिलाएं, बासी खाना ना दें। उल्टी और दस्त की शिकायत होने पर ओआरएस का घोल पिलाएं।

Saturday, 6 April 2019

5 Adverse Effects of Bad ,

5 Adverse Effects of Bad Posture You Must Know


Poor Digestion

Yes, it might be very surprising but your poor posture can lead to poor digestion. It can mess with your gut health. A poor posture affects the different organs required for digestion which leads to poor gut health. You are more likely to experience constipation due to poor posture.



Foot pain

Poor posture can affect your feet as well. The improper alignment of different organs leads to pain in feel which can make it difficult for you to complete day to day tasks. Hence you should improve your posture to keep your each body part fit and fine.



Headaches

The work pressure and the stress is not the only reason behind those headaches. A bad posture puts stress on your neck and head as well which contributes to headaches. Headaches can reduce your ability to complete a particular task. Correct your posture immediately to avoid headaches.




Inability to sleep

Poor posture can affect your sleep as well. A misaligned posture leads to stress on various muscles. It does not allow you to sleep properly. You won't be able to relax properly. Not just your sitting posture you should also improve your sleeping position for a good night's sleep.

More stress

Isn't the work pressure and other responsibilities enough to give you a lot of stress? But you are simply increasing stress with a bad posture. A poor posture increases both mental and physical stress. Bad posture can also create a hormonal imbalance which increases the level of cortisol and triggers stress.


Wednesday, 3 April 2019

5 कैंसर बढ़ रहे हैं सबसे ज्यादा, जानें इनके बारे में

 कैंसर एक खतरनाक बीमारी है ।जिसका कोई भी इलाज नहीं है ।अगर शुरुआत में ही इस बीमारी का पता चल जाता है तो व्यक्ति की जान बच सकती है।

  • अब तक 100 से भी ज्यादा प्रकार के कैंसरों को खोजा जा चुका है।

कैंसर जानलेवा और गंभीर बीमारी है, जो हर साल लाखों लोगों की जिंदगियां छीन रही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) के अनुसार आज दुनियाभर में होने वाली हर 6 में से 1 व्यक्ति की मौत का कारण कैंसर है। आपको जानकर हैरानी होगी कि अब तक 100 से भी ज्यादा प्रकार के कैंसरों को खोजा जा चुका है। इनमें से कुछ कैंसर ऐसे हैं, जो सबसे तेजी से बढ़ रहे हैं। आइए आपको बताते हैं दुनियाभर और भारत में कौन से कैंसर से सबसे ज्यादा कॉमन और इनके बारे में।

Cancer


ब्रेस्ट कैंसर

भारतीय महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर सबसे ज्यादा पाया जाने वाला कैंसर है। ब्रेस्ट कैंसर के 60% से ज्यादा मामलों में इसका पता एडवांस स्टेज में चलता है, जिससे मरीज को बचाने की संभावना कम हो जाती है। ब्रेस्ट कैंसर के शुरुआती लक्षणों में स्तनों में गांठ, स्तनों के आकार में बदलाव, निप्पल से सफेद पानी का रिसाव और तेजी से वजन कम होना आदि हैं। खास बात यह है कि स्तन कैंसर सिर्फ महिलाओं ही नहीं पुरुषों को भी हो सकता है।


मुंह का कैंसर (ओरल कैंसर)

भारतीय पुरुषों में मुंह का कैंसर सबसे ज्यादा पाया जाने वाला कैंसर है। इसका कारण यह है कि भारत में लोग तंबाकू, गुटखा, पान-मसाला, सिगरेट, बीड़ी, सुपारी आदि का सेवन बहुत करते हैं। मुंह के कैंसर की सबसे बड़ी वजह तंबाकू है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के अनुसार भारत में मुंह के कैंसर के मरीजों में 40.43% से ज्यादा मामलों में इसका प्रमुख कारण तंबाकू का सेवन होता है।
मुंह के कैंसर के शुरुआती लक्षणों में मुंह तथा जीभ की सतह पर लाल अथवा सफेद रंग के दाग-धब्बों का उभरना, मुंह में छाले, तीन हफ्तों से अधिक बने रहने वाली सूजन, त्वचा या मुंह की सतह में गांठ, निगलने में परेशानी, गले में दर्द, जीभ में दर्द, आवाज में भारीपन आदि हैं।

सर्वाइकल कैंसर

भारत में कैंसर से होने वाले मौतों में ब्रेस्ट कैंसर के बाद सबसे ज्यादा महिलाओं की मौतें सर्वाइकल कैंसर के कारण हो रही हैं। सर्वाइकल कैंसर सर्विक्स में होता है, जो महिलाओं के गर्भाशय के नीचे का एक हिस्सा है। महिलाओं में होने वाले इस कैंसर के लक्षण बहुत सामान्य होते हैं, जैसे- पीरियड्स में अनियमितता, वजाइना से सफेद पदार्थ निकलना, पेट के निचले हिस्से में दर्द, जल्दी-जल्दी पेशाब आना आदि। यही कारण है कि ज्यादातर महिलाएं सर्वाइकल कैंसर के इन शुरुआती लक्षणों को नजरअंदाज कर देती हैं।


फेफड़ों का कैंसर

फेफड़ों का कैंसर भी भारत में भयावह रूप ले चुका है। फेफड़ों के कैंसर का सबसे बड़ा कारण सिगरेट, बीड़ी, वायु प्रदूषण, गुटखा और ई-सिगरेट्स आदि हैं। भारत में फेफड़ों के कैंसर से महिलाओं से ज्यादा पुरुष प्रभावित होते हैं। गले और चेहरे पर सूजन आना, जोड़ों, पीठ, कमर और शरीर के अन्य भागों में दर्द रहना, लंबे समय तक खांसी रहना, सीने में दर्द और बलगम में खून आना, सांस लेते वक्त कठिनाई महसूस होना आदि लंग्स कैंसर के संकेत हैं।

कोलन कैंसर

कोलन कैंसर दुनियाभर में कैंसर से होने वाली मौतों का दूसरा सबसे बड़ा कारण है। भारत में भी कोलन कैंसर के मरीजों की संख्या बहुत ज्यादा है। आमतौर पर कोलन कैंसर का खतरा उन लोगों को ज्यादा होता है, जो तंबाकू, शराब, रेड मीट आदि का ज्यादा सेवन करते हैं। जिन लोगों को इन्फ्लेमेट्री बॉवल डिजीज होता है, उनको कोलन कैंसर का खतरा ज्यादा होता है।

Sunday, 31 March 2019

सोने से दूध में दालचीनी मिलाकर पीने से दूर होता है जोड़ों का दर्द और मोटापा

हैलो दोस्तो आजकल शरीर ओर जोड़ो के दर्द से हर कोई परेशान रहता है ।इसके लिए आप कुछ घरेलू नुस्खे अपनाकर इन बीमारियों से दूर रह सकते है। अपने औषधीय गुणों के साथ-साथ विशिष्ट स्वाद और खुशबू तौर पर भी जानी जाती है। इस लोकप्रिय औषधीय मसाले का उपयोग विभिन्न प्रकार के व्यंजनों, मीठे और नमकीन व्यंजनों, अनाज के नाश्तों, बेक्ड माल और स्नैक्स में किया गया है। यह एंटीऑक्सिडेंट और एंटीबायोटिक गुणों से भरा हुआ है। दालचीनी के फायदों को अगर लेना चा‍हते हैं इसे आप दूध के साथ ले सकते हैं। इसके अलावा एक और अच्छा तरीका है कि दालचीनी की छड़ को पानी में भिगोएँ और नियमित रूप से उसे पीएं। हालांकि यहां हम आपको सिर्फ दूध के साथ लेने की सलाह दे रहे हैं और इससे होने वाले फायदों के बारे में विस्‍तार से बता रहे हैं।



दालचीनी के फायदे
दालचीनी


दालचीनी की सूखी पत्तियां तथा छाल को मसालों के रूप में प्रयोग किया जाता है। इसकी छाल थोड़ी मोटी, चिकनी तथा हल्के भूरे रंग की होती है। दालचीनी मोटापा कम करने के साथ-साथ कई बीमारियों को भी दूर करता है। आज हम आपको बता रहे हैं कि अगर आप दालचीनी का दूध के साथ सेवन करते हैं तो आपको कितने फायदे होंगे। साथ ही दालचीनी के साथ शहद मिलाकर खाने से दिल की बीमारियां, कोलेस्ट्रॉल, त्वचा रोग, सर्दी जुकाम, पेट की बीमारियों के लिए फायदेमंद है। आइए जानते हैं और किन बीमारियों के लिए फायदेमंद है दालचीनी:

दालचीनी के फायदे

सर्दी-जुकाम और बुखार में है फायदेमंद

आजकल के मौसम में वायरल बुखार और सर्दी-जुकाम एक आम समस्या हो गई है। ऐसे में दूध के साथ या एक चम्मच शहद में थोड़ा सा दालचीनी पाउडर मिलाकर सुबह-शाम लेने से खांसी-जुकाम में आराम मिलता है।

मोटापे से दिलाए छुटकारा

मोटापे जैसी समस्या के लिए भी दालचीनी फायदेमंद है। साफ पानी में 1 चम्मच दाल चीनी पाउडर मिलाकर इसे उबालें। फिर इसमें दो बड़े चम्मच शहद मिलाकर सुबह—शाम लें। नियमित ऐसा करने से शरीर की अनावश्यक चर्बी का सफाया होता है।

गले की खराश दूर करे

गले में खराब होने पर भी दालचीनी फायदा करती है। गर्म पानी में एक चुटकी दालचीनी पाउडर तथा एक चुटकी पिसी काली मिर्च दूध के साथ मिलाकर पीएं। 2 से 3 बार ही इस मिश्रण के सेवन से आपको गले की खराश से आराम मिल जाएगा।

इसे भी पढ़ें:

दिल के रोगों में है लाभकारी

दिल के दौरे की संभावना को भी दालचीनी खत्म करता है। जिन लोगों को पहले भी हार्ट अटैक का दौरा पड़ चुका है वे अगर दालचीनी का साबुत सेवन करेंगे तो भविष्‍य में हार्ट अटैक की संभावना काफी कम हो जाती है।


जोड़ों के दर्द से दिलाता है आराम

जोड़ों के दर्द के लिए भी दालचीनी लाभकारी है। हल्के गर्म पानी के साथ दालचीनी पाउडर का नियमित सेवन करने से आपको समस्या से छुटकारा मिलता है। इसके अलावा आप दालचीनी पाउडर को शहद के साथ मिलाकर शरीर में दर्द वाले अंग पर हल्‍के हाथों से मालिश भी कर सकते हैं। दर्द से राहत मिलेगी।


कब्‍ज और गैसे दिलाए मुक्ति


कब्ज, गैस और अपच जैसी पेट की समस्‍या के लिए भी दालचीनी किसी चमत्कार से कम नहीं है। दूध के साथ थोड़ा सा दालचीनी पाउडर मिलाकर लेने से पेट दर्द और एसिडिटी में आराम मिलता है तथा भोजन भी आसानी से पच जाता है।

Tuesday, 26 March 2019

बच्चो का मोटापा कैसे दूर करें।मोटापा

हैलो दोस्तो ।अगर आपका भी बच्चा जरूरत से ज्यादा मोटा या उसमे मोटापा बढ़ने लगता है ।तो ये अपके लिए एक बहुत बड़ी समस्या बन जाती है।एक समय था जब डायबिटीज केवल वयस्‍कों में ही देखने को मिलती थी, लेकिन स्‍वास्‍थ्‍य के प्रति लापरवाही से डायबिटीज बच्‍चों को भी अपना शिकार बनाता जा रहा है। लेकिन अगर माता-पिता चाहें तो अपने बच्‍चों की खानपान के प्रति आदतों को सुधार कर इससे दूर रख सकते हैं। बहुत से ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जिन्‍हें डायबिटीज में खाना हानिकारक होता है साथ ही इनके अत्‍यधिक सेवन से डायबिटीज होने का भी खतरा रहता है। तो आइए जानते हैं कि कौन से आहार आपके बच्‍चों की सेहत के लिए खतरा हैं।


Motapa kaise kam kare.
Motapa kaise door kare



फास्‍ट फूड:_


बच्चों में आमतौर पर हफ्ते में दो या दो से अधिक बार फास्ट फूड खाने की प्रवृत्ति देखी जाती है। ऐसे में बच्चों के शरीर में फास्ट फूड के जरिये जो यह अतिरिक्त कैलोरी पहुँच रही है, वह उनकी शारीरिक गतिविधि से पूरी तरह खर्च नहीं होती है और इस कारण वे मोटापे के शिकार होने लगते हैं। मोटापे के कारण बच्चों में सांस की तकलीफ और मधुमेह जैसी बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती है।

चॉकलेट, कैंडी और कुकीज:_


डायबिटीज में चीनी और चीनी से बने खाद्य-पदार्थों से परहेज करना चाहिए। ज्‍यादा चीनी वाले आहार जैसे - चॉकलेट, कैंडी और कुकीज में पोषक तत्‍व नही होते हैं और इनमें कार्बोहाइड्रेट की मात्रा कम होती है जिससे यह ब्‍लड में शुगर के स्‍तर को बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा चीनी खाने से मोटापा बढ़ता है जो कि डायबीज के लिए खतरनाक है।

सॉफ्टड्रिंक:_


सॉफ्टड्रिंक बच्‍चों को बहुत पसंद होती है, जिसे बिना रोक टोक वो पीते हैं जबकि इसमें शुगर की मात्रा बहुत अधिक पाई जाती है, इसलिए इसके सेवन से ब्‍लड में शुगर को लेवल बढ़ा जाता है। इसमें कैलोरी की मात्रा भी बहुत अधिक होती है। जो डायबिटीज होने में मदद करती हैं।

केक और पेस्‍ट्री:_

बच्‍चों को केक और पेस्‍ट्री की लत से दूर रखना चाहिए, क्‍योंकि केक को बनाते वक्‍त सोडियम, चीनी आदि का प्रयोग किया जाता है जो कि ब्‍लड में शुगर के लेवेल को बढ़ाता है। यह इंसुलिन के फंक्‍शन को भी प्रभावित करता है। इसके अलावा केक और पेस्‍ट्री दिल की बीमारियों को भी बढ़ाता है।

Saturday, 23 March 2019

गर्म चाय पीने के नुकसान, हो सकता है एसोफेगल कैंसर।

अगर आपकी भी आंखे रोजाना गर्म चाय पीने से ही खुलती है ।तो आप भी जान लीजिए कि गर्म चाय पीने के हमारे शरीर के अंदर कितने नुकसान होते है


चाय पीने के नुकसान,ग्रीन टी,लेमन टी,हेल्थ टिप्स
चाय पीने के नुकसान


रोजाना 60 डिग्री सेल्सियस पर 700ml चाय पीने से 90 प्रतिशत तक ऐसाफेगल कैंसर होने का खतरा रहता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि ऐसा इसलिए क्योंकि तेज गर्म पानी (पेय पदार्थ) से मुंह और गले में जलन होने लगती है, जो एक वक्त के बाद कैंसर का रूप ले लेती है। शोधकर्ताओं ने यह भी दावा किया है कि यह कैंसर महिलाओं से ज्यादा पुरुषों को होता है।


  • ऐसोफेगस कैंसर भारत में छठें नंबर का सबसे गंभीर कैंसर है।


अमेरिकन कैंसर सोसाइटी के मुख्य लेखक फरहाद इस्लामी का कहना है कि कुछ लोग गर्मागर्म चाय, कॉफी और अन्य पेय पदार्थों का काफी लुत्फ उठाते हैं। यह शौक एक स्तर के बाद एसोफेगस में दिक्कत करने लगता है, जिसके चलते एसोफेगस कैंसर होने का खतरा काफी बढ़ जाता है। किसी भी गर्म पेय पदार्थ को लगभग 4 मिनट ठंडा करने के बाद पीना चाहिए। अन्यथा इससे गले और पेट के बीच का 'फूड पाइप' बुरी तरह प्रभावित होता है। यह खतरा उन लोगों में ज्यादा होता है जो लगातार 75 डिग्री सेल्सियस पर पेय पदार्थों का सेवन करते हैं

हमारे शरीर के अंदर के अंग बहुत ज्यादा नाजुक और संवेदनशील होते हैं। ऐसे में अगर उनके साथ जरा भी सख्ती से पेश आया जाए या जरूरी बातों को नजरअंदाज किया जाए तो गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं। हाल ही में एक रिसर्च में पाया गया है जो लोग लगातार तेज गर्म चाय पीते हैं उनमें एसोफेगल कैंसर होने की संभावना काफी बढ़ जाती है। द अमेरिकन कैंसर सोसाइटी में हुई इस रिसर्च में कहा गया है कि उन लोगों को काफी सचेत होने की जरूरत है जो गर्म चाय, कॉफी या फिर अन्य पेय पदार्थ पीने के शौकीन होते हैं। आपको बता दें कि ऐसोफेगस कैंसर भारत में छठें नंबर का सबसे गंभीर कैंसर है जबकि विश्व स्तर पर इस कैंसर को आठवें पायदान पर खतरनाक पाया गया है।

Thursday, 21 March 2019

Regain hair?Best foods to regain hair?बालों के लिए उपयोगी भोजन?

हेलो दोस्तो भारत में 100 में से 95 %लोग बालों को समस्या से पीड़ित है ।जो बालों कि झडने की समस्या से परेशान है ।आजकल बालों का झड़ना एक आम समस्या होती जा रही है।
लंबे, मजबूत और चमकदार बाल लगभग हर किसी का सपना होता है! 

लंबे, मजबूत और चमकदार बाल लगभग हर किसी का सपना होता है, फिर भी हर कोई इसे पूरा नहीं कर पाता है। बेशक, आपकी खोपड़ी को स्वस्थ रखना महत्वपूर्ण है, लेकिन अपने आहार पर ध्यान देना भी महत्वपूर्ण है। आपके पास सूखे, रूखे, चिकने या रेशमी बाल हो सकते हैं- ये सभी आपके अंदर के स्वास्थ्य संकेत हैं। प्रत्येक स्ट्रैंड कोशिकाओं से बना होता है जिसमें केराटिन नामक एक कठिन प्रोटीन होता है और आपके बालों को लंबे और मजबूत बनाने के लिए उन्हें लगातार खनिजों और विटामिनों से भरपूर होना चाहिए। हमने बालों की वृद्धि के लिए कुछ खाद्य पदार्थों को शामिल किया है, जिन्हें आपको अपने दैनिक आहार में अवश्य शामिल करना चाहिए।

How to regain hair, regrow hair
Regain hair


बालों की वृद्धि के लिए कुछ खाद्य पदार्थों को शामिल किया जाना चाहिए

अखरोट 

अखरोट में ओमेगा-3 फैटी एसिड (omega-3 fatty acid) , विटामिन ई और बायोटीन (biotin) नाम का प्रोटीन प्रचुर मात्रा में होता है जो बालों के रंग को काला और घना बनायें रखने में मदद करता है। जिनके बाल कम उम्र में सफ़ेद हो जाते हैं उनके लिए अखरोट बहुत लाभकारी सिद्ध होता है। 

गाजर

गाजर तो बालों के लिए वरदान स्वरूप है क्योंकि यह विटामिनों से भरपूर होता है। गाजर में जो विटामिन ई होता है वह बालों को उगने, काले और घने होने में बहुत मदद करता है। विटामिन सी के कारण स्कैल्प में रक्त का संचार अच्छी तरह से हो पाता है जो बालों को असमय सफ़ेद होने से बचाता है।

अंडा

अंडा प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत होता है। प्रोटीन के अलावा इसमें आयरन, सल्फर, जिन्क (zinc) और सेलेनियम (selenium) भी पाया जाता है। बालों के लिए आयरन बहुत ज़रूरी होता है क्योंकि इसके कमी से बाल झड़ने लगते हैं। आयरन बालों के पुटिका को (follicle) ऑक्सिजन प्रदान करने में सहायता करता है जिससे बाल स्वस्थ और काले घने नज़र आते हैं।

बादाम

बादाम, अखरोट आदि बालों के लिए कुदरत का वरदान हैं। इनमें आयरन, कॉपर, फास्फोरस, विटमिन बी-1 और प्रोटीन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। यह शरीर में हीमोग्लोबिन को बढ़ाता है और नई कोशिकाओं का विकास करता है, जिससे बाल स्वस्थ रहते हैं। बादाम के तेल में 2-3 टी स्पून बादाम का दूध मिलाकर सिर की त्वचा, बालों की जड़ों पर लगाने से वे मजबूत और घने होते हैं।

केला

केला स्वास्थ्य के साथ-साथ बालों के लिए भी लाभदायक है। रोज एक केला खाने से बाल मजबूत होते हैं। इसमें शुगर, फाइबर, थाइमिन और फॉलिक एसिड के रूप में विटामिन ए और बी उपयुक्त मात्रा में मौजूद होता है। केला खाने से बाल हैल्दी और मजबूत बनते हैं।

Monday, 11 March 2019

How To paint yellow teeth?पीले दांत कैसे चमकाए?

हैलो दोस्तो स्वागत है आपका आल ट्रिक में दोस्तो आज में बताऊंगा कि कैसे आप अपने पीले दांतो को सफेद मोटी जैसे चमका सकते है वो भी  इस घरेलू नुक्शे से।
दांतो में दर्द रहना ,जाड में कीड़ा लगना ,दांत पीले पड़ना ,दांतो और मसूड़ों में दर्द रहना ,इन समस्याओं से आजकल 90%लोग पीड़ित है।ये समस्याएं  मीठा खाने से ,कोलगेट ना करने से ओर बाज़ार की चीजे जैसे चॉकलेट खाने हो जाती है 


How to clean teeth, how to paint yellow teeth,how to remove teeth pain
How to paint yellow teeth


अगर समय से अपने दांतो का इलाज नहीं करते हैं तो इनमें बहुत दर्द होता है  फिर ये सारे जल्दी गीर जाते है ओर हम बूढ़े दिखने लगते है ।इसलिए हमे अपने दांतो की पूरी देखभाल करनी चाहिए। 
आप इस ट्रिक को भी आजमाकर अपने दांतो की सभी समस्याओं से छुटकारा पा सकते है 

दांतों का उपचार: -यदि आप भी अपने दांतो की समस्या से  परेशान है तो आप भी इस उपचार को  कर  सकते है।
इसके लिए सबसे पहले आपको एक कटोरी में ढाई चम्मच पिसा हुआ चावल का आटा लेना है ।ओर उसमे 2 से 3 चमच गुलाब जल की मिला लेनी है।यदि यह सुख रह जाय तो उसमे 1 ,2 चम्मच गुलाब जल ओर डाल ले इसका अच्छे से पेस्ट बना ले।उसके बाद2 गोली पूदीन  हरा लेनी है।2 पूडीन हरा की गोली का रस निकाल कर उस पेस्ट में मिला ले पेस्ट को अच्छे से मिलाएं।अब उस पेस्ट को रोजाना  सुबह थोड़ा सा  अपने कोलगेट ब्रश पर डालकर अपने दांतो पर हल्के हाथों से रगड़े।
इस ब्रश को रोजाना करने से ।आपके दांतो का कीड़ा साफ हो जाएगा ।आपके दांत पीले हो या काले हो उन्हें मोटी जैसे सफेद कर देगा ओर यदि आपके दांतो में दर्द रहता है ।तो ये नुशका आपके जाड़ दांत के दर्द को भी दूर कर देगा।
दोस्तो आप भी    इस  पेस्ट को आजमाएं और अपने दांतो की सफेद ओर उनकी मजबूती बड़ाए।

Monday, 4 March 2019

How to lose weight?पेट कैसे कम करे।?

भारत में 90%लोग अपने मोटापे से परेशान रहते है ।मोटापा आजकल एक आम बीमारी होती जा रही है।आजकल हमारी सभी खाने पीने की चीजो में मिलावट आने लगी है।खाने में तरह तरह के विषैले पदार्थ आने लगे है ।सब्जियों में भी मिलावट आने लगी है।जो हमारे शरीर को बहुत नुकसान दायक होती है।जो हमारे शरीर के अंदर जाकर आसानी से नहीं पचती।ओर हमे गैस ,कब्ज आदि की समस्या होने लगती है।जिस से हमारा पेट फूलने लगता है।ओर हम मोटापे के शिकार हो जाते है।

How to lose weight,motapa kaise kam kare ,pet kam karne ke tarike
How to lose weight


हम अपने मोटे पेट को कम करने के लिए बहुत सारी दवाई कहते है ।लेकिन उनसे कोई फायदा नहीं होता।तो आज में आपको बताऊंगा कि कैसे आप बहुत जल्दी अपने पेट को कम कर सकते है।वो भी अपने घर पर घरेलू नुक्स के द्वारा।

पेट कैसे कम करें:
यदि आप भी अपने मोटे पेट को कम करना चाहते है वो भी बहुत जल्दी।तो आप सबसे पहले आधा लीटर पानी लीजिए।उसमे 2 चम्मच जीरा डाल दीजिए।ओर उसे उबलने के लिए आग पर रख दीजिए।जब यह पानी उबाल कर आधा रह जाए तो इसे  गिलास में छान लीजिए ।इसके बाद इसमें 1 नींबू का रस और 1 चम्मच शहद की डाल लीजिए।बस फार्मूला तैयार है ।अब उसे रोजाना खाना खाने से पहले शुबह खाली पेट पी लीजिए ।इसे आपको 1 सप्ताह में ही फर्क नजर आ जाएगा।
ओर इस पानी को पीने से आपके पेट में कभी गैस भी नहीं बनेगी ओर कब्ज एसिडिटी की भी कभी समस्या नहीं होगी 

Saturday, 2 March 2019

Benefits of neem leaves.. How to use?

Hello everyone this info is about Neem tree leave.and his benifits.

In Ayurveda, Neem tree has been described as the biggest medicine. From its leaves to roots it is packed with medicines. Many types of diseases can be removed from the body by its proper use. Today, many people have eliminated many problems using a hamster. There are many elements that destroy the diseases. Let's know what is the effect of eating healthy neem leaves.


Neem leave
Neem leave


Benefits of neem leaves:

1) Diabetes is very dangerous. This is the reason why most people today are angry. If you want to reduce the amount of sugar in your body, then do empty stomach exercises every morning and wash 2 fresh leaves with neem tree and eat well.


Neem leave, Neem ki patti
Neem leave


2) Frequency of summer and rain. Pimples of acne or boil-pimples can be grinded into the vein and placed on the face.

3) Today, Balo has many dandruff and itching. So you boil neem leaves in water and wash your hair with water from the water and shampoo, leave it for half an hour. It will end the Russian and itchy

Saturday, 23 February 2019

Consume this healthiest snack to lose those extra kilos

We all want to look healthy and fit and losing those extra Kilos is not tha easy.  While you may plan your breakfast, lunch and dinner, what messes up your weight loss efforts is the mid-day snack.  While there are plenty of snack options like nuts, fruits and other available, they may not be suited for both vegetarians and non-vegetarians. We bring you a Ha snack that is not only tasty but also nutritious and is also perfect to fill up your stomach, reduce cravings and help in weight loss.


Cottage cheese is high on protein which makes it an ideal food for a low-carb, high-protein weight loss diet. Protein is important for weight loss as it helps in burning fat for energy. Cottage cheese is also filling and therefore keeps you fuller for longer, keeping you from overeating and also reducing cravings. Eating raw cottage cheese with a dip or just some salt sprinkled on it is a great way to eat cottage cheese as a snack. You can also roast or grill cottage cheese cubes which might taste better. Clubbing cottage cheese with any nuts, seeds, or fruit can also serve as a good snack option.

Friday, 15 February 2019

Hair fall solution, hair care ,hair problem

Children want different care in every season. Whether it is summer, winter or season of rain! People of all ages do not go back after taking care of their hair. 


Hair fall solution, regrow hair,hair care
Regrow hair solution


Hair care:--

Sometimes expensive shampoos, then ever spend money by visiting a beauty parlor. But if you have noticed, then the hair of the people of olden days still look dense and long. You might be wondering why this happens why? So let us tell you that our old grandparents and grandparents used home remedies in their time.
Nowadays, hair loss is increasing with increasing age. In such a way, they are unable to pay attention to their hair because of the running of the day.


Hair fall solution, regrow hair,hair care
Hair fall solution


Coconut oil milk:--
Remove the milk from coconut for use in this hair. Keep in mind that you do not have to buy this milk from the market. Then add half lemon and four drops of lavender oil into it. Leave on the scalp for about four to five hours. After that wash the hair. '

Apple vinegar: cleanse vinegar scalp and pH Helps to maintain balance. For long dense hair it is 75 ml in one liter of water. Mix and make 15 cups of warm water in lukewarm water. Mix

Wednesday, 13 February 2019

How to lose weight?

After all, how can one reduce 30 kg in 15 days, without any change in any diet or any of its daily routine? How can this happen? Just drinking a drink that is completely natural in the day? 


How to lose weight
How to lose weight


Weight loss

For the past three months, our readers are getting excited about a product that reduces the weight of both men and women rapidly and easily, without even dieting or exercises. This revolutionary method has been shown in many TV programs and it is safe to use continuously.
It is very difficult to follow most of the diets. You are told that you make major changes in your food and time and this is the reason that it is most likely to lose weight as if climbing a high mountain. Spas and gyms, which run slimming programs, are not less than Rs 40,000-50,000, and the results are not available even after being so expensive. They only reduce the weight of water from your body and you get the weight again within a month.


How to lose weight
How to lose weight


Nutralyfe Green Coffee  is very usefull

Some people have come using a secret method but at the same time people want to keep this secret a secret at any cost. This is the reason why you try, but the exact method of getting lean can not reach you. We will tell you why this is so and why doctors do not want to give you this way. If you use this system properly, you will get results that you will be trickled by seeing. None of your friends and brothers will be ready to accept how easy it was.

The most difficult is to reduce the belly, buttocks and waist fat. You can never get rid of fat without any antioxidant you try. Unfortunately if you are a common man, then it is unlikely that your diet will contain antioxidants. Including the right amount of antioxidant in your diet and the only way to reduce fat, and this product is about which we are going to tell you here.

Nutralyfe Green Coffee  profitable

This patented mixture of Nutralyfe Green Coffee contains two such things which together make you lean faster. Activates and improves the processing of fatty acids in chlorogenic acid liver and stimulates the breakdown of fat in the intestines, which reduces fat absorption in the blood. Caffeine is a powerful natural antioxidant. It strengthens the blood vessels of skin and strengthens the process of reconstructing the skin, helps fight the free radicals of our body.


How to lose weight
How to lose weight


Boosts energy Antioxidants are found abundant in - It makes the heart and digestive system good Sheds out those toxic substances from our body, which has been accumulated in our bodies for many years Destroys dangerous parasites from your digestive system Throw out the 'mud' from the walls inside the stomach (which makes it difficult to burn fat!) Gas and stomach relaxes Controls your metabolism Enhances energy, libido and consciousness

Thursday, 7 February 2019

Treatment of cold, cough, and tilting, (सर्दी, खांसी, ओर झुकाम का इलाज,)

Friends, having colds, coughs, and colds in the cold weather is a common thing. Some people are also disturbed by cold winters. Oops also use medicines, but the wound is not good or there is frequent grief. So for those people, there is a problem that you can avoid from cold winters by using. If you get some cold, or else it becomes cold, cough or cough, then you take this remedy and Rdi is significant to stay away from cold or cough Kor disease may not be from you soon.




How to make medicines:-

You have to do this in this way. First of all, take 2 cups of water. Take 1 spoon cumin seeds. Boil the ground with water and boil until boiled and dead. Put 6 to 7 leaves of basil in that dead cup of water, and take a little ginger and grind it in a grater and after finely add 1 teaspoon ginger and put it in that water.


Fill that water Keep it aside and let it boil until it remains 1 cup.Whenever it remains 1 cup water, take it off. Now you will need some sweet to drink it, then add 1 or 2 teaspoon honey according to your taste and mix it well. Now our medicine is ready.


Important tips :-


It will be very good if you take this medicine in the morning. And its effect will be very good. keep in mind . You should not eat anything 1 hour before taking medicines and some food should be eaten after one hour after taking medication.

Wednesday, 30 January 2019

कैंसर क्या है. कैंसर कैसे होता है .कैंसर के लक्षण .PROSTATE CANCER

कैंसर :

कैंसर सामान्य शब्द है जिसका उपयोग कोशिकाओं के असामान्य, अनियंत्रित गुणन के कारण विकारों के एक समूह का वर्णन करने के लिए किया जाता है, जिसके परिणामस्वरूप आमतौर पर पड़ोसी ऊतकों का विनाश होता है। धीरे-धीरे, ये ऊतक और अंग काम करना बंद कर देते हैं और मृत्यु हो सकती है। कोशिकाओं को गुणा करना शुरू करने के कारण ज्यादातर मामलों में अज्ञात हैं। उनके पास कुछ इनबिल्ट असामान्यता हो सकती है या बाहरी प्रभावों से प्रभावित हो सकते हैं।

कैंसर का इलाज



सामान्य भाषा में कैंसर से जुड़े शब्द :


ऑन्कोलॉजी - 'ओन्को' अर्थात 'कैंसर', ऑन्कोलॉजी विभिन्न प्रकार के कैंसर का अध्ययन है।
ट्यूमर - कोशिकाओं की अनियंत्रित वृद्धि से उत्पन्न एक गांठ जो घातक या सौम्य हो सकती है।
घातक - कोशिकाओं की वृद्धि जो आसपास के ऊतक को नष्ट कर देती है और शरीर के अन्य भागों में फैल जाती है।

Blood, Vial, Analysis, Laboratory, Test
सौम्य - कोशिकाओं का विकास जो कैंसर नहीं है।
सौम्य और घातक दोनों प्रकार की वृद्धि कोशिकाओं के अवांछित गुणन हैं, लेकिन जबकि एक सौम्य वृद्धि आम तौर पर अपने मूल के स्थान को नहीं छोड़ती है, एक घातक वृद्धि आमतौर पर न केवल इसके मूल के ऊतक को नष्ट करती है बल्कि आसपास के लोगों को भी नष्ट कर देती है। यही कारण है कि कैंसर घातक वृद्धि के कारण होता है, जो शरीर के सभी क्षेत्रों में फैलता है।
कार्सिनोमा - कैंसर के साथ पर्यायवाची शब्द। लेकिन कार्सिनोमस विशेष रूप से घातक ट्यूमर होते हैं जो प्रभावित अंग की रूपरेखा (उपकला) पर बनते हैं। यह कैंसर का सबसे अक्सर होने वाला रूप है।
सारकोमा - कैंसर का एक और रूप जहां विशेष रूप से संयोजी ऊतक (जो शरीर के विभिन्न भागों का समर्थन करता है) प्रभावित होता है। यह एक घातक रूप है और रक्त, लसीका प्रणाली, हड्डी और इस तरह के कैंसर इस श्रेणी में आते हैं।

कैंसर के लक्षण :


कैंसर कई अलग-अलग तरीकों से प्रकट होता है। ज्यादातर अक्सर उन्हें शरीर के किसी हिस्से में गांठ या वृद्धि के रूप में देखा जाता है। यह ट्यूमर के साथ मामला है जो अंगों की रूपरेखा पर बनता है। जब कैंसर की वृद्धि शारीरिक रूप से पहचान योग्य नहीं होती है, तो कैंसर के रूप और प्रभावित अंग के आधार पर अन्य खुलासा लक्षण हो सकते हैं।




मस्तिष्क में कैंसर के लक्षण सिरदर्द, उल्टी, चलने में कठिनाई, पक्षाघात और स्मृति समस्याएं जैसे लक्षण हो सकते हैं। आंत के ट्यूमर आंत्र आंदोलनों और पेट में दर्द की समस्या पेश कर सकते हैं। फेफड़ों के कैंसर सांस लेने में कठिनाई और खांसी से प्रकट हो सकते हैं। स्तन के कैंसर का दर्द रहित गांठ के रूप में पता लगाया जाता है। कुछ मामलों में एक या दोनों स्तनों की कुछ विकृति भी हो सकती है।

कुछ घातक ट्यूमर प्रभावित अंग से असामान्य रक्तस्राव द्वारा प्रकट होते हैं। उदाहरण के लिए, आंत के कैंसर के परिणामस्वरूप मल में रक्त की हानि हो सकती है। इसी तरह, फेफड़े के कैंसर का पता तब लगाया जा सकता है जब रोगी थूक में रक्त पास करता है। दर्द, जैसा कि लोकप्रिय माना जाता है, कैंसर का एक सामान्य लक्षण नहीं है। यह केवल कुछ मामलों में होता है जहां ट्यूमर के तेजी से बढ़ने के कारण तंत्रिका को दबाया जाता है।






अन्य लक्षण जो कैंसर के सभी प्रकारों के लिए सामान्य हो सकते हैं, भूख की कमी, वजन का अस्पष्टीकृत नुकसान, कमजोरी और थकान की सामान्य भावना और संक्रमण के लिए वृद्धि की संभावना है। इन लक्षणों को पुरुषों और महिलाओं द्वारा नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। यदि आपको कोई भी ऐसा लक्षण दिखाई दे तो हमेशा अपने डॉक्टरों से सलाह लें।

कैंसर से बचाव के कुछ उपाय :


यदि रक्त मल या खांसी में पारित हो जाता है, तो रोगी को डॉक्टर देखना चाहिए। पुष्टि के लिए, प्रभावित अंग की बायोप्सी की जाती है। इस प्रक्रिया में, कैंसर कोशिकाओं की उपस्थिति का पता लगाने के लिए प्रयोगशाला परीक्षण के लिए ऊतक का एक छोटा हिस्सा लिया जाता है। फेफड़े, यकृत, पेट या आंत के कैंसर के मामले में, क्षेत्र का एक्स-रे या अल्ट्रासाउंड लिया जा सकता है। निदान के लिए अंगों के सीटी स्कैन भी किए जा सकते हैं। निदान हमेशा रोगी के पिछले चिकित्सा इतिहास को ध्यान में रखते हुए किया जाता है।




कैंसर का इलाज कैसे करे और इस बीमारी से बचाव : 

कैंसर का जल्द पता चलने पर उपचार सबसे प्रभावी होता है। कीमोथेरेपी कैंसर के लिए उपचार का सबसे आम तरीका है जो शरीर के अन्य भागों में फैल गया है। इस प्रक्रिया में, घातक कोशिकाओं को मेथोट्रेक्सेट और विन्क्रिसटाइन जैसे शक्तिशाली रसायनों की मदद से नष्ट कर दिया जाता है, जिन्हें अंतरा-शिरापरक रूप से दिया जाता है यानी सीधे नसों में इंजेक्ट किया जाता है। इस प्रक्रिया में चिकित्सा की अवधि के लिए अस्पताल में रहने की आवश्यकता होती है। यह कुछ दिनों के लिए बालों के झड़ने, मतली, उल्टी, भूख न लगना और कमजोरी जैसे विभिन्न दुष्प्रभावों से भी जुड़ा हुआ है। ऐसे ट्यूमर के लिए जो फैल नहीं गया है, रेडियोथेरेपी या विकिरण या सर्जरी नहीं की जा सकती है। पूर्व में, मजबूत रेडियोधर्मी तरंगों की मदद से कोशिकाओं को नष्ट कर दिया जाता है। ट्यूमर की सही स्थिति को चिह्नित किया गया है और क्षेत्र को कड़ाई से नियंत्रित परिस्थितियों में विकिरण के संपर्क में लाया गया है। यह उपचार विराम और पूर्व-निर्धारित खुराक में दिया जाता है। स्तन, थायरॉयड या प्रोस्टेट जैसे हार्मोनल नियंत्रण के तहत अंगों में विकसित ट्यूमर का इलाज एंडोक्राइन थेरेपी से भी किया जा सकता है। इस उपचार में, या तो हार्मोन का स्रोत हटा दिया जाता है या हार्मोन विरोधी दवाएं दी जाती हैं। यह उपचार कीमोथेरेपी से अधिक है क्योंकि इसमें आमतौर पर कम गंभीर दुष्प्रभाव होते हैं। लेकिन डॉक्टर कैंसर के रूप के निदान के आधार पर उपचार का सबसे अच्छा कोर्स तय करता है

Saturday, 26 January 2019

Beauty tips? सिर्फ सात दिन ।इस्तेमाल करे और अपने चेहरे को सुंदर बनाइए।

 हैलो दोस्तो
यदि आपका चेहरा इंप्रेसिव नहीं है आपके चेहरे पर सांवलापन है।लड़किया आपको भाव नहीं देती तो आज आपको में ऐसे  पेस्ट के बारे में बताऊंगा जिसका इस्तेमाल सिर्फ आपको 10 से 15 दिन करना है इन्हीं दिनों में आपका चेहरा इतना सुंदर हो जाएगा ।लोग आश्चर्य चकित हो जाएंगे ।सभी आपसे इंप्रेस   हो जाएंगे। आपका कॉन्फिडेंस भी बहुत ज्यादा बढ़ जाएगा।क्यूंकि  आजकल कहावत है - जो दिखता है वो बिकता है।लोग अपने चेहरे को सुंदर बनाने के लिए पता नहीं क्या क्या जुगाड करते रहते है ।और अपने पैसे फुकते रहते है । में आज आपको ऐसे पेस्ट के बारे में बताऊंगा जिसे आप घर पर ही बना सकते है।





1-दूध, हल्दी और बेसन:- ये तीनों चीज सभी घर में आसानी से मिल जााती है ।दूध एक पोस्टिक आहार है ।जिसका  उपयोग हम एंटीबायटिक्स में भी कर सकते है । पेस्ट आपको इस प्रकार बनाना है ।
2 बड़े चम्मच बेसन के ले उसमे 1 चम्मच हल्दी और थोड़ा सा दूध मिला ले ।पेस्ट आपको ज्यादा घाडा नहीं बनना है ।इसे आप थोड़ा पतला रखे जो ये आपके चेहरे पर आसानी से चिपक जाय ।इन तीनों चीजों को मिलाकर एक पेस्ट बना ले ।उस पेस्ट को आप अपने मुंह पर लगा कर हल्की सी मालिश करके छोड़ दे ।जब ये सुख जाय तो हल्के हाथो से रगड़कर इसे उतार दे ।


इस पेस्ट को आप सुबह और शाम दोनों टाइम में लगा सकते है।इसे आप रात को लगाकर सो जाय और सुबह भी उतार सकते है ।इस पेस्ट को आप लगातार उपयोग करे  ।और एक हफ्ते बाद आपके चेहरे में बहुत ज्यादा निखार आएगा ।

2- दूध और शहद:-दूध में सभी प्रकार के वििटामिन और प्रोटीन पाए जााते है ।यदि हम दूध के साथ शहद को मिलाकर पीते है। तो हमाारे शरीर को बहुत ऊर्जा मिलती है।और यदि हम दूूध के साथ शहद को मिलाकर अपने चेेहरे पर लगते है।तो चेहरे का निखार आता है। इस प्रकार उपयोग करें ।
4 चम्मच शहद में 1 चम्मच दूध मिलाकर पेस्ट बनाएं और उसे 4 से 5 मिनट्स तक अपने चेहरे की मालिश करें । और कुछ देर बाद चेहरे को धो ले आपके चेहरे पर निखार आता है ।एक नमी सी बनी रहती है।इस उपयोग को एक सफ्ताह में 2 बार करना चाहिए।



3- दूध और नमक :-4 चमच दूध में एक चुटकी  को मिलाकर  इस से  अपने चेहरे की मसाज  करे ।2 से 3  मिनट। तक चेहरे की हल्की मसाज  करे वो  भी घुमावदार । इसके बाद अपने चेहरे को धो ले ।इस से भी आपके चेहरे में निखार   आता है ।। इस उपयोग को भी सफ्ताह में 1 या 2  बार ही करना चाहिए।

Wednesday, 16 January 2019

अगर आप भी करते है सफर में उल्टी तो करे ये उपाय

ज़िन्दगी की भागदौड़ में हर किसी को सफर करना पड़ता है ।कुछ लोग सफर का आनंद लेते है लेकिन कुछ लोगों को सफर करने का मन होता है या किसी जरूरी काम से सफर करना होता है लेकिन उन्हें  सफर मे उल्टी होने के कारण वे सफर नहीं कर पाते ।तो आज हम आपके लिए कुछ ऐसे टिप्स लेकर आए है जिन्हें उपयोग करने पर आपको सफर में उल्टी नहीं होगी ।आप अपना कोई भी जरूरी काम कर सकते है ।आपको उल्टी नहीं होगी और आप सफर का आनंद ले पाएंगे तो चलिए आपको बताते है कि सफर सुरु करने से पहले आपको क्या खाना चाहिए जिस से आपको उल्टी ना हो।


प्याज का रस का जूस:-अगर आपको भी सफर में उल्टी होने का डर लगता है या आपको सफर में परेशानी होती है तो आप सफर में जाने से आधे घंटे पहले एक चम्मच प्याज के  रस में एक चम्मच अदरक का रस मिलाकर पी ले चाहिए।आपको उल्टी नहीं होगी।अगर सफर  लंबा हो तो ये रस अपने साथ लेकर चले ।
लौंग साथ में लेकर चले:- जब आप सफर करते है उस समय आपका जी मचलने लगे तो तुरंत 1,2 लौंग मुंह में रखकर चूसनी चाहिए।आपका जी मचलना बंद हो जाएगा और आपको उल्टी नहीं लगेगी।
 अदरक:- अदरक में अनेक प्रकार के गुण होते है ।अदरक एक entimetic पदार्थ है ।जो उल्टी और चक्कर आने से बचाता है।जब भी सफर में आपको उल्टी लगे या जी मचलने लगे तो अदरक की चाय पीनी चाहिए या एक अदरक का भाग चूसना चाहिए।या फिर अदरक के दुकड़े साथ में लेकर चले ।


नींबू का रस:-सफर में जाने से पहले आप एक छोटे कप में गर्म पानी ले उस में एक नींबू का रस और थोड़ा सा नमक अच्छी तरह मिलाकर पिएं ।या फिर एक कप गर्म पानी में नींबू के रस के साथ थोड़ा सहद मिलाकर भी पी सकते है ।क्यूंकि नींबू एक असरदार ओषधि है इसमें सीट्रिक एसिड होता है जो जी मचलने और उल्टियों को रोकता है।