Wednesday, 3 April 2019

5 कैंसर बढ़ रहे हैं सबसे ज्यादा, जानें इनके बारे में

 कैंसर एक खतरनाक बीमारी है ।जिसका कोई भी इलाज नहीं है ।अगर शुरुआत में ही इस बीमारी का पता चल जाता है तो व्यक्ति की जान बच सकती है।

  • अब तक 100 से भी ज्यादा प्रकार के कैंसरों को खोजा जा चुका है।

कैंसर जानलेवा और गंभीर बीमारी है, जो हर साल लाखों लोगों की जिंदगियां छीन रही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) के अनुसार आज दुनियाभर में होने वाली हर 6 में से 1 व्यक्ति की मौत का कारण कैंसर है। आपको जानकर हैरानी होगी कि अब तक 100 से भी ज्यादा प्रकार के कैंसरों को खोजा जा चुका है। इनमें से कुछ कैंसर ऐसे हैं, जो सबसे तेजी से बढ़ रहे हैं। आइए आपको बताते हैं दुनियाभर और भारत में कौन से कैंसर से सबसे ज्यादा कॉमन और इनके बारे में।

Cancer


ब्रेस्ट कैंसर

भारतीय महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर सबसे ज्यादा पाया जाने वाला कैंसर है। ब्रेस्ट कैंसर के 60% से ज्यादा मामलों में इसका पता एडवांस स्टेज में चलता है, जिससे मरीज को बचाने की संभावना कम हो जाती है। ब्रेस्ट कैंसर के शुरुआती लक्षणों में स्तनों में गांठ, स्तनों के आकार में बदलाव, निप्पल से सफेद पानी का रिसाव और तेजी से वजन कम होना आदि हैं। खास बात यह है कि स्तन कैंसर सिर्फ महिलाओं ही नहीं पुरुषों को भी हो सकता है।


मुंह का कैंसर (ओरल कैंसर)

भारतीय पुरुषों में मुंह का कैंसर सबसे ज्यादा पाया जाने वाला कैंसर है। इसका कारण यह है कि भारत में लोग तंबाकू, गुटखा, पान-मसाला, सिगरेट, बीड़ी, सुपारी आदि का सेवन बहुत करते हैं। मुंह के कैंसर की सबसे बड़ी वजह तंबाकू है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के अनुसार भारत में मुंह के कैंसर के मरीजों में 40.43% से ज्यादा मामलों में इसका प्रमुख कारण तंबाकू का सेवन होता है।
मुंह के कैंसर के शुरुआती लक्षणों में मुंह तथा जीभ की सतह पर लाल अथवा सफेद रंग के दाग-धब्बों का उभरना, मुंह में छाले, तीन हफ्तों से अधिक बने रहने वाली सूजन, त्वचा या मुंह की सतह में गांठ, निगलने में परेशानी, गले में दर्द, जीभ में दर्द, आवाज में भारीपन आदि हैं।

सर्वाइकल कैंसर

भारत में कैंसर से होने वाले मौतों में ब्रेस्ट कैंसर के बाद सबसे ज्यादा महिलाओं की मौतें सर्वाइकल कैंसर के कारण हो रही हैं। सर्वाइकल कैंसर सर्विक्स में होता है, जो महिलाओं के गर्भाशय के नीचे का एक हिस्सा है। महिलाओं में होने वाले इस कैंसर के लक्षण बहुत सामान्य होते हैं, जैसे- पीरियड्स में अनियमितता, वजाइना से सफेद पदार्थ निकलना, पेट के निचले हिस्से में दर्द, जल्दी-जल्दी पेशाब आना आदि। यही कारण है कि ज्यादातर महिलाएं सर्वाइकल कैंसर के इन शुरुआती लक्षणों को नजरअंदाज कर देती हैं।


फेफड़ों का कैंसर

फेफड़ों का कैंसर भी भारत में भयावह रूप ले चुका है। फेफड़ों के कैंसर का सबसे बड़ा कारण सिगरेट, बीड़ी, वायु प्रदूषण, गुटखा और ई-सिगरेट्स आदि हैं। भारत में फेफड़ों के कैंसर से महिलाओं से ज्यादा पुरुष प्रभावित होते हैं। गले और चेहरे पर सूजन आना, जोड़ों, पीठ, कमर और शरीर के अन्य भागों में दर्द रहना, लंबे समय तक खांसी रहना, सीने में दर्द और बलगम में खून आना, सांस लेते वक्त कठिनाई महसूस होना आदि लंग्स कैंसर के संकेत हैं।

कोलन कैंसर

कोलन कैंसर दुनियाभर में कैंसर से होने वाली मौतों का दूसरा सबसे बड़ा कारण है। भारत में भी कोलन कैंसर के मरीजों की संख्या बहुत ज्यादा है। आमतौर पर कोलन कैंसर का खतरा उन लोगों को ज्यादा होता है, जो तंबाकू, शराब, रेड मीट आदि का ज्यादा सेवन करते हैं। जिन लोगों को इन्फ्लेमेट्री बॉवल डिजीज होता है, उनको कोलन कैंसर का खतरा ज्यादा होता है।

No comments:

Post a Comment